आपको स्वयं को हुए नुक्सान का पता ही नहीं चलता?